,
Mpsvv M.phil/Ph.D

महर्षि पाणिनि संस्कृत एवं वैदिक विश्वविद्यालय

MAHARSHI PANINI SANSKRIT EVAM VEDIC VISHWAVIDYALAY

(University established by Government of M.P. in 2008)

शोधकेन्द्र


सत्र 2019-20


पीएचडी/ एम.फिल. Ph.D./ M.Phil - शोध प्रवेश परीक्षा 2019 – 20 (RET-2019-20)

महर्षि पाणिनि संस्कृत एवं वैदिक विश्वविद्यालय विद्यावारिधि/एम.फिल.(पीएच.डी.) प्रवेश परीक्षा
सामान्य नियम एवं निर्देश

1- विश्वविद्यालय का परिचय:-

मध्यप्रदेश शासन द्वारा संस्कृत भाषा, शास्त्र परम्परा एवं प्राचीन ज्ञान-विज्ञान को संरक्षित करने तथा आधुनिक वैज्ञानिक विधि से शोध व अनुसन्धान को प्रोत्साहित करने तथा संस्कृत माध्यम से उच्च शिक्षा प्रदान करने के उद्देश्य से “महर्षि पाणिनि संस्कृत विश्वधविद्यालय अधिनियम 2006” के अनुसार 17 अगस्त 2008 को भगवान् महाकालेश्वर की पुण्य नगरी उज्जैन में महर्षि पाणिनि संस्कृत एवं वैदिक विश्वविद्यालय की स्थापना की गई। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (UGC) की धारा 2(F) के अन्तर्गत यह विश्वविद्यालय मान्यता प्राप्त है तथा भारतीय विश्वविद्यालय संघ (AIU) का भी सदस्य है। इस विश्वलविद्यालय का कार्यक्षेत्र सम्पूर्ण मध्यप्रदेश है अतः प्रदेशभर के कुल 20 शासकीय एवं अशासकीय महाविद्यालय सम्बद्ध हैं। विश्वविद्यालय में स्नातक स्तर पर शास्त्री/बी.ए.संस्कृत तथा स्नातकोत्तर स्तर पर आचार्य/एम.ए.संस्कृत, ज्योतिर्विज्ञान एवं योग तथा शोध एवं अनुसन्धान हेतु एम्.फिल्/विद्यावारिधि (Ph.D)तथा शास्त्री-शिक्षाशास्त्री एकीकृत (B.A.- B.Ed Integrated) पाठ्यक्रमों के संचालन एवं शिक्षण की उच्च स्तरीय सुविधाएँ उपलब्ध हैं। विश्वविद्यालय के स्नातक, स्नातकोत्तर एवं शोध पाठ्यक्रमों को विश्वविद्यालय अनुदान आयोग से एवं शिक्षाशास्त्र पाठ्यक्रम को राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद (NCTE) द्वारा मान्यता प्राप्त है।


2-शोध उपाधि का परिचय :-

एम्.फिल. एवं विद्यावारिधि(पीएच.डी.) उपाधि विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा डॉक्टोरल उपाधि के रूप में अधिमान्य है। इसका प्रमाणपत्र संस्कृत भाषा तथा अंग्रेजी भाषा के अनुवाद सहित प्रदान किया जाएगा। यह उपाधि भारत के अन्य विश्वविद्यालयों की एम्.फिल. एवं पीएच.डी. उपाधि के समान है। विश्वविद्यालय की स्थापना के मूल उद्देश्यों की प्राप्ति को दृष्टिगत रखते हुए प्रस्तुत शोध उपाधि के प्रबन्ध (Thesis) का लेखन संस्कृत भाषा में ही किया जाना अनिवार्य होगा।


शोधकार्य / Thesis
व आर.डी.सी /RDC submission
("soft copy")

शोधपत्रिकायें एवं
पाणिनियाँ डिजिटल एडिशन

शोध संगोष्ठी सूचना

mpsvv